Hindi Romantic Love Shayari




“Chupke se dekhna palke jhukake hasna

Ise me kya samjhu koi ishara to do na…”



koi ishara to do na…



Chupke se dekhna palke jhukake hasna
Ise me kya samjhu koi ishara to do na


Rubru milo to dil lagta hai dhadkne
Hotho per hi rah jate hai dilke fasane
Bahki-bahki dhadkan hai
Ye kaisi ulzan hai
Durse hi niharna kaisa hai afsana
Ise me kya samjhu koi ishara to do na


Tum to kabhi kah do jo kahna hai muzko
Kabtak anjanosa yun hi rahna hai hamko
Dil bhi salah nahi de raha
O bhi bekhudi me ji raha
Behal kyu rhna judai kabtak sahna
Ise me kya samjhu koi ishara to do na

Romantic-Love-Shayri


कोई इशारा तो दो ना




चुपकेसे देखना, पलके झुकाके हँसना
इसे में क्या समझू कोई इशारा तो दो ना


रूबरू मिलो तो दिल लगता है धड़कने
ओठों पर ही रह जाते है दिल के फसाने
बहकी बहकी धड़कन है
ये कैसी उलझन है
दुरसेही निहारना, कैसा है ये अफसाना
इसे में क्या समझू कोई इशारा तो दो ना


तुम तो कभी कहदो जो कहना है मुझको
कब तक अंजनोस यूँ ही रहना है हमको
दिल भी सलाह नही दे रहा
वो भी बेखुदी में जी रहा
बेहाल क्यू रहना,जुदाई कबतक सहना
इसे में क्या समझू कोई इशारा तो दो ना






Post a comment

0 Comments