Hindi Gam Shayari on Life



"Gam yar hai sabhika

Ambar ho ya jamika"


Gam... 


Gam yar hai sabhika
Ambar ho ya jamika
Gam k bina hota bhi kya 
Mol kisi khushi ka 

Dilwalo ke basti me rahta hai khushi se
Nata hai purana iska pyar ke dilo se
Kabhi is dil me 
Kabhi us dil me 
Yahi kam hai usika 
Gam yar hai sabhika
Ambar ho ya jamika

Kabhi khusi se pahle kabhi khushi ke bad 
Mehmano sa aaye jaye din ho chahe rat 
Jab chahe aaye 
Jab chahe jaye
usapar na jor kisika
Gam yar hai sabhika
Ambar ho ya jamika

Pyar bahot karta hai sacche insano se
Par thoda darta hai jhute beimano se
Wafa hai pyara 
Bewafa hai gawara 
Yanhi paigam usika 
Gam yar hai sabhika
Ambar ho ya jamika






गम


गम यार है सभी का
अंबर हो या जमीं का
गम के बिना होता भी क्या
मोल किसी खुशी का

दिलवालो के बस्ती में रहता है ख़ुशीसे
नाता है पुराना इसका प्यार के दिलोसे
कभी इस दिल में
कभी उस दिल मे
यही काम है उसीका
गम यार है सभी का
अंबर हो या जमीं का


कभी खुशी से पहले कभी खुशी के  बाद
मेहमानों सा आए जाए दिन हो चाहे रात
जब चाहे आए
जब चाहे जाए
उसपे ना जोर किसीका
गम यार है सभी का
अंबर हो या जमीं का


प्यार बहोत करता है सच्चे इंसानोसे
पर थोड़ा डरता है झुठे बईमानों से
वफ़ा  है प्यारा
बेवफा है गवारा
यही पैगाम उसीका
गम यार है सभी का
अंबर हो या जमीं का

www.shayrkidunya.com





Post a comment

0 Comments