Sad Love Shayari Hindi



"Jivan ka pahla pyar koi bhulta nahi

Chhut jata hai O sathi fir milta nahi"


pahla pyar…


Jivan ka pahla pyar koi bhulta nahi
Chhut jata hai O sathi fir milta nahi


Baho ki garmi aur, badhati sason ka jor
Pahli mulakat usape dhadkan ka shor
Tham jaye baad barso fir machta nahi
Chhut jata hai O sathi fir milta nahi


Kasmo ke dhage bunate,Rasmo ke jaal me
Fas jate hai diwane jag ke sawal me
Mil jaye jawab magar hal milta nahi
Chhut jata hai O sathi fir milta nahi


Sochata hu kya O bhi muze yaad karti hogi
Meri tarha usaki bhi kabhi aankh chhalki hogi
Meet jaaye do aankhe dilse nam mitata nahi

Chhut jata hai O sathi fir milta nahi


पहला प्यार




जीवन का पहला प्यार कोई भूलता नहीं
छूट जाता है वो साथी, फिर मिलता नहीं


बाहो की गर्मी और,बढ़ती सांसो का जोर
मुलाकात पहली उसपे धड़कन का शोर
थम जाए बाद बरसो,फिर मचता नही
छूट जाता है वो साथी, फिर मिलता नहीं


कस्मो के धागे बुनते, रस्मो के जाल में
फस जाते है दिवाने जग के सवाल में
मिल जाए जवाब मगर, हल मिलता नहीं
छूट जाता है वो साथी, फिर मिलता नहीं


सोचता हूं क्या वो भी मुझे याद करती होगी
मेरी तरहा उसकी भी कभी आँख छलकी होगी
मिट जाये  दो आंखे, दिलसे नाम मिटता नही
छूट जाता है वो साथी, फिर मिलता नहीं

shayrkidunya.com




Post a comment

0 Comments