Sad Zindagi Shayri and poem



“Dost badal jate hai ,dosti badal jati hai

Waqt ke dariya me zindagi badal jati hai”




Waqt ka Dariya...



Dost badal jate hai ,dosti badal jati hai
Waqt ke dariya me zindagi badal jati hai


Har koi chahnewala saccha nahi hota
Anjane me dil lagana achha nahi hota
Aaj jispe hai aitbar
Wahi kar jate hai inkar
Dil badal jate hai,dillagi badal jati hai
Waqt ke dariya me zindagi badal jati hai


Milgai kal mujhako ek hasi chandni
Sapno se sajai jisne meri zindagi
Wo tha ek rat ka mela
Fir ho gaya uajala
Raat nikal jati hai, chandani badal jati hai
Waqt ke dariya me zindagi badal jati hai


Wada kiya tha hamne jis makam par milne ka
Us makam par maine kiya intzar usake aaneka
Wo aakar chali gai
Suna sajan ki gali gai
Ishq badal jata hai, aashiqi badal jati hai
Waqt ke dariya me zindagi badal jati hai




Sad Zindagi Shayri and poem



वक़्त का दरियाँ


दोस्त बदल जाते है, दोस्ती बदल जाती है
वक्त के दरियाँ मे जिंदगी बदल जाती है

हर कोई चाहनेवाला सच्चा नही होता
अंजाने मे दिल लगाना अच्छा नही होता
आज जिसपे है ऐतबार
वही कर जाते है इंकार
दिल बदल जाते है, दिल्लगी बदल जाती है
वक्त के दरियाँ मे जिंदगी बदल जाती है


मिल गई कल मुझको एक हसी चांदनी
सपनो से सजाई जिसने मेरी जिंदगी
वो था एक रात का मेला
फिर हो गया उजाला
रात निकल जाती है चांदनी बदल जाती है
वक्त के दरियाँ मे जिंदगी बदल जाती है


वादा किया था हमने जिस मकाम पर मिलने का
उस मकाम पर मैंने किया इंतजार उसके आनेका
वो आकर चली गई
सुना साजन की गली गई
इश्क बदल जाता है, आशिकी बदल जाती है
वक्त के दरियाँ मे जिंदगी बदल जाती है

shayrkidunya.com





Post a comment

1 Comments

  1. लाजवाब मेरे दोस्त
    100 आऊट of 100.

    ReplyDelete

Please do not enter any spam link in the comment box.