New Sad Life two line shayri


New Sad Life Two Line Shayari 



Tu hai aasma me kanhi,

Tere bin akeli hu,
Sab kahte maa me bilkul tere jaisi hu.




तू है आसमाँ में कहीं,
तेरे बिन अकेली हूं,
सब कहते माँ मैं बिल्कुल तेरे जैसी हूं …






Kahte hai log ke duriyonse mahobbat badhati hai

Lekin unka kya,

Jinki jindagi intzar me katati hai 



कहते है लोग के दुरियोंसे महोब्बत बढती है
लेकिन उनका क्या,
जिनकी जिंदगी इंतजार मे कटती है... 






Hum kanhi tum kanhi jakar bas gaye

Apni kadmo ke nisha raho se mit gaye 
  

तुम कही हम कही जाकर बस गए

अपने कदमो के निशा राहों से मिट गए 





Tanhai ki aadat lag rahi hai muzko
Dhire dhire hi sahi bhul rhi hu tuzko
Muz me main ab khona chahti hu
Marne se pahle jeena chahti hu
Jeene ki pyas fir lag rahi hai Muzko
Dhire dhire hi sahi bhul rhi hu tuzko




तन्हाई की आदत लग रही है मुझको
धीरे धीरे ही सही भूल रही हूं तुझको
मुझमें मै अब खोना चाहती हूं
मरने से पहले जीना चाहती हूं
जीने की प्यास फिर लग  रही है मुझको
धीरे धीरे ही सही भूल रही हूं तुझको

https://www.shayrkidunya.com/







Post a comment

0 Comments